डेंगू बुखार के लक्षण और उपचार की जानकारी

पुरे देस में आजकल डेंगू के बुखार ( Dengue Bukhar ) का मामला सामने आ रहा है। शहर हो या गांव, बच्चे हो या बड़े कोई भी इसकी चपेट में आने से नहीं बच पा रहा रहा। यह रोग इतना खतरनाक है की समय रहते इसकी पहचान करके इलाज ना कराया गया तो रोगी की मृत्यु तक हो जाती है। आपकी जरा सी असावधानी इस रोग के चपेट में आने का कारन बन सकती है।

Dengue fever

 

क्या आप जानते है, डेंगू रोग कैसे होता है ? इससे बचने के क्या-क्या उपाय हैं? डेंगू रोग से कैसे बचें ? यह हमारे लिए कितना खतरनाक हो सकता है ? डेंगू बुखार कैसे फैलता है ? डेंगू किस मच्छर के काटने से फैलता है ? इसको समाप्त करने के लिए क्या करें? डेंगू रोग हो जाने पर क्या करें ? अगर किसी को डेंगू बुखार ( Dengue Fever ) हो जाये तो क्या क्या सावधानियां बरतनी चाहिए ? डेंगू का इलाज क्या है? डेंगू की पहचान कैसे करे ? ये बीमारी होने पर क्या क्या खाना चाहिए ? इन सब की जानकारी आज हम आपको यहाँ बता रहे है।

हर साल हमारे देश में डेंगू बुखार की जानकारी और इसके सही इलाज के आभाव में लाखो लोगो की मृत्यु हो जाती है। अगर समाये रहते डेंगू की पहचान कर इसका सही से इलाज किया जाये तो रोगी को आसानी से बचाया जा सकता है। यहाँ हम आपको डेंगू बुखार के बारे में पूरी जानकारी बता रहे है, जिसकी मदद से आप समय रहते डेंगू की पहचान कर के इस खरनाक बुखार से बच सकते है। जैसे:- डेंगू रोग कहां से शुरू होता है ? कब शुरू होता है? कैसे शुरू होता है डेंगू हो जाने के बाद क्या-क्या करना चाहिए? डेंगू मच्छर से कैसे बचे हैं ?

यह भी पढ़े – जानिए कैसे करे मधुमेह को कट्रोल

डेंगू बुखार क्या है ? What is Dengue Fever ?

डेंगू एक प्रकार का बुखार है तथा यह एडिस एजेप्टी नामक मच्छर के काटने से होता है यह मच्छर दिन में काटते हैं यह एक संक्रामक रोग है यह हमारे लिए जानलेवा भी हो सकता है इसे हड्डी तोड़ बुखार कहते हैं। क्यों की इसके होने पर तेज सिर दर्द होता है, मांसपेशियों तथा जोडों मे भयानक दर्द होता है क्योंकि यह सामान्य बुखार से बहुत खतरनाक होता है पूरा सरीर इसकी वजह से टूट सा जाता है, इस बुखार से किसी की जान भी जा सकती है।

बच्चों में डेंगू रोग:-

बच्चों की स्किन बहुत नाजुक होती है और इसी कारण मच्छर के काटने से बच्चों में रोग बहुत तेजी से फैलता है चुकी यह रोग वायरस की वजह से फैलता है जिसकी वजह से बच्चे बहुत जल्दी बीमार होने लगते हैं डेंगू बुखार जितना खतरनाक बड़े लोगों के लिए है उससे कहीं ज्यादा खतरनाक बच्चों के लिए होता है|

बच्चों में डेंगू रोग एक महामारी के जैसा होता है तथा यह बहुत खतरनाक होता है क्योंकि बच्चे इस को सहन नहीं कर पाते हैं। एडिस एजेप्टी मच्छरके काटने से बच्चे बहुत जल्दी बीमार होते हैं तथा उनका स्वास्थ्य धीरे-धीरे गिरने लगता है जब यह रोग धीरे-धीरे बच्चों में बढ़ने लगता है उनके शरीर में दर्द तथा जोड़ों में दर्द तथा सर में दर्द बहुत तेजी से होता है जो बच्चे सहन नहीं कर पाते हैं।

यह भी पढ़े – इन घरेलू नुस्खे को अपना कर 1 हफ्ते में करे अपना मोटापा कम

डेंगू बुखार के लक्षण , Dengue Fever Symptoms :-

अगर किसी को बुखार है उसके लक्षण से आसानी से पता कर सकते है की यह साधारण बुखार है या डेंगू बुखार है। पता लगने पर समाये रहते सही इलाज से रोगी की जान बचाई जा सकती है।

  • ठंड के साथ बुखार बहुत तेज हो जाता है जिसको सहन करना बहुत मुश्किल होता है।
  • ब्लड प्रेशर बहुत कम हो जाता है।
  • मांसपेशियों में और जोड़ों में बहुत तेज दर्द होता है।
  • शरीर धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है।
  • खाना अच्छा नहीं लगता है तथा भूख बहुत कम लगती है।
  • खुद को बहुत कमजोर समझना या फिर महसूस करना।
  • शरीर पर लाल चकते भी बन जाते है जो पहले पैरों पे फिर छाती पर उसके बाद सारे शरीर पर फैल जाते है।
  • पेट खराब हो जाना, उसमें दर्द होना और दस्त लगना।
  • रोगी के रक्त मे प्लेटलेटस की संख्या कम होती जाती है।
  • डेंगू बुखार चार से पांच दिनों के लिए होता है।

डेंगू रोग कैसे होता है, How is Dengue Disease ?

  1. डेंगू मानव मे एडिस एजेप्टी नामक मच्छर के द्वारा फैलता है यह मच्छर बरसात के मौसम से पनपते हैं या फिर हमारे घर के आस पास जो पानी कट्ठा रहता है उससे पनपते हैं। लोगों को पानी के खुले पात्रों को खाली रखना चाहिये जिससे मच्छर इनमें अंडा न दे सकें । मच्छरों को नियंत्रित करने के लिये कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है।
  2. डेंगू रोग कभी एक व्यक्ति की छूने से दूसरे व्यक्ति को नहीं होता है यह केवल मच्छर के काटने से ही होता है अगर कोई साधारण मच्छर किसी डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को काट ले और फिर वह मच्छर किसी स्वस्थ व्यक्ति को काट ले तो वह स्वस्थ व्यक्ति भी डेंगू का शिकार हो जाएगा। मच्छरों के काटने से बचने के लिये लोग ऐसे कपड़े पहन सकते हैं जो पूरी तरह से उनकी त्वचा को ढ़ंक कर रखें।
  3. डेंगू रोग कमजोर व्यक्ति को बहुत तेजी से होता है क्योंकि इनमें प्रतिरोध की क्षमता भी बहुत कम होती है जिसकी वजह से इसके विषाणु सरीर में बहुत तेजी से फैलते है। और जिस व्यक्ति में प्रतिरोधक क्षमता बहुत अधिक होती है उन्हें यह रोग बहुत कम मात्रा में या फिर नहीं होता है।
  4. डेंगू बुखार भी मलेरिया की तरह मच्छर के काटने से होता है लेकिन डेंगू बुखार एडिस एजेप्टी नामक मच्छर के काटने से होता है तथा यह मच्छर दिन में काटते हैं या फिर रात को ऊजाले में काटते है।
  5. घर के आस-पास कूड़ा होने से भी मच्छर पनपने लगते हैं तथापि डेंगू मलेरिया जैसे बुखार होने का संकट रहता है।

यह भी पढ़े – क्या आपको पता है ? सौंफ खाने के कितने फायदे है।

डेंगू रोग से बचने के उपाय, Dengue Prevention :-

  • मच्छर जल में पनपते हैं कि मच्छरों से बचने के लिए अपने आसपास के जल को सुखा देने तथा अपने आसपास के कूड़ा कचरा को हटा दें।
  • अपने घर के आसपास पानी इकट्ठा ना होने दें यदि पानी करता है तो उसे सुखा देना चाहिए या फिर उस पानी में कीटनाशक दवाइया डाल देनी चाहिए।
  • घर के कूलर के पानी को हर ३ दिन बाद बदले तथा कूलर को साफ रखें पानी को खुला ना छोड़ें स्वच्छ जल पिए तथा घर की छत पर स्थित जल को सुखा दें तथा छत को साफ करें।
  • जिस स्थान पर डेंगू फैल रहा है उस स्थान से जल को सुखा दें तथा आसपास स्थित कूड़े को हटा दें तथा स्वच्छ जल का उपयोग करें।
  • गमले का पानी को सुखा दें तथा आपके बच्चे जिस स्कूल में पढ़ते है वहां पर बच्चों की सुरक्षा के लिए उचित कदम उठाने के लिए कहें।

कैसा आहार लेना चाहिए:-

आयुर्वेद के जानकारों और डॉक्टरों के अनुसार डेंगू बुखार हो जाने के बाद कोई खास आहार लेने की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन जिस व्यक्ति का पाचन कमजोर है या फिर पाचन आसानी से नहीं होता है उन व्यक्तियों को कुछ इस प्रकार का आहार लेना चाहिए और जिस व्यक्ति डेंगू बुखार से पीड़ित हैं वह भी यह आहार ले सकते हैं

  • मुख से तरल देते रहना क्योंकि रोगी के सरीर में जल की कमी हो सकती है।
  • डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को बाहर ंकी चीजें नही खानी चाहिए जैसे मंचूरियन, चौमिन ,बर्गर आदि
  • डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को ऐसा आहार लेना चाहिए जो आसानी से पच जाए तथा वह बाहर का नहीं होना चाहिए  आप कुछ इस प्रकार के आहार ले सकते है जैसे सूप , दलिया , खिचड़ी ,फल , उबली हुई सब्जियां आदि ले सकते हैं|
  • डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को अगर प्यास लगती है या उल्टी होती है तो क्या की कमी को पूरी करने के लिए सूप, ताजे फल का जूस ,नारियल का पानी का उपयोग करें जो पानी की कमी को दूर करेगा।
  • डेंगू बुखार के समय तले हुए भोजन का उपयोग बिल्कुल भी ना करें तथा मसाले वाले भोजन का भी उपयोग ना करें।

रोगी को खाना चाहिए तथा उनके बारे में आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं  अब मैं आपको बताऊंगा की जिन लोगों को डेंगू बुखार हो गया है उनको क्या करना चाहिए या फिर डेंगू बुखार होने के बाद क्या करें|

यह भी पढ़े – इन तरीको को अपना कर आप भी अपने चहरे को सुंदर और गोरा बना सकते है।

डेंगू बुखार होने के बाद क्या करें , What to Do After Dengue Fever ?

  • बुखार होने पर सबसे पहले रोगी को किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाना चाहियें , क्यों की समय से इसका इलाज ही रोगी की जान बचता है।
  • डेंगू बुखार होने पर अपने घर के आस-पास के जल को सुखा दें जिससे कि मच्छर नहीं पैदा होंगे|
  • अपने घर के आसपास जल इकट्ठा ना होने दें तथा अपने घर के आस-पास इकट्ठे कूड़े कचरे को हटा दें|
  • डेंगू रोग होने के बाद रोगी को कभी भी तला हुआ भोजन नहीं देना चाहिए तथा मसालेदार भोजन कभी भी नहीं देना चाहिए|
  • डेंगू रोग होने के बाद रोगी को साफ सुथरे कपड़े पहनाए तथा उसको समय समय पर भोजन तथा प्यास लगने पर नारियल का पानी ,सूप , जूस आदि पिलाएं|
  • रोगी का झूठा किसी को न खिलाए और पिलाएं|
  • रोगी के सोते समय मच्छरों से बचाने के लिए मच्छरदानी का उपयोग करें

यहाँ दी गयी सभी जानकारी डेंगू के बुखार के बारे में है। अगर आप इसके बारे में और अधिक जानना चाहते है तो किसी अच्छे चिकत्सक से संपर्क कर के उससे इसके रोकथाम और उपचार के बारे में सलाह ले सकते है।