नारियल के गुण एवं फायदे |Nariyal Ke Gun Fayde in Hindi

Nariyal ke gun fayde in hindi हमारे देश में पाया जाने वाला नारियल एक बहुत ही गुणकारी और उपयोगी फल है. जितनी ऊँचाई पर लगते है, उतने ही नारियल के गुण भी है. ये भूख के साथ प्यास भी मिटाता है. इसको शुभ फल और श्री फल भी कहते है. श्री फल मतलब लक्ष्मी का फल. नारियल का उपयोग फल, तेल, दूध में और कई प्रकर के व्यंजन बनाने में करते है. भारतीय लोक व्यवहार में नारियल का विशेष महत्व है. साथ ही साथ पूजन आदि कार्य में इसका स्थान सर्वोपरी माना जाता है. इसके बिना किसी भी पूजा में कलश नहीं रखा जाता. शादी समारोह में व्यक्ति के सम्मान में श्रीफल देने का महत्त्व हैं. चीन में कहावत है इसमें में उतने गुण है जितने की एक वर्ष में दिन होते है. नारयल का पेड़ उगाना का मतलब, अपने परिवार के लिए खाना, पीना, कपडे और इधन आदि का इंतजाम कर लेना. इसकी गिरी, जल, फूल, तेल, छाल आदि सभी के औषधि उपयोग है.

nariyal

नारियल के गुण एवं फायदे | Nariyal Ke Fayde in Hindi | Coconut Benefits

आप इसको किसी भी तरह इस्तेमाल करो, ये प्रत्येक रूप गुणकारी तथा फायदेमंद है. नारियल में खनिज, विटामिन, शक्कर आदि के घटक आदि मौजूद रहते हैं. इसका सेवन कई बीमारियों से लड़ने की रोग प्रतिरोधक क्षमता देता हैं, क्यों की इसमें कई औषधीय गुण विधमान हैं. नारियल के गुण पानी के रूप में उपयोग, तेल के रूप में उपयोग और गिरी का उपयोग यह सब अपना-अपना अलग महत्व रखते है. ये सेहत के लिए अत्यंत गुणकारी होते है. नारियल के फायदे बहुत है. आप इसका उपयोग किसी भी रूप में करे अत्यंत ही आसान है. आइये देखे की हम इसका इस्तेमाल किस-किस तरह से कर सकते है.

इसे पढ़े :- चेहरे से मुहांसे पिम्पल्स हटाने के 10 घरेलु उपाए और तरीके .

नारियल की गिरी के गुण और फायेदे | NARIYAL GIRI

  1. आयुर्वेद के अनुसार नारियल के फायदे में उसकी गिरी शीतल, पुष्टिकारक, बलदायक, वात-पित और रक्त-विकार नाशक होती है. यह देर से हजम होने वाली तथा मूत्राशय-शोधक मानी जाती है.
  2. सुखी गिरी मधुर, पोष्टिक, स्वादिष्ट, रुचिकारक और बलवीर्य वरधारक होती है. इसमें उच्च कोटि का प्रोटीन रहता है.
  3. पकाने पर नारियल गिरी में चिकनाई तथा कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बढ़ जाती है.
  4. कच्चे नारियल की गिरी में अनेक एंजाइम होते है, जो पाचन क्रिया में मददगार होती है. बवासीर, मधुमेह, गेस्टिक अल्सर में यह काफी सहायक है, क्यों की इसमें चिकनाई और स्टार्च विधमान है.
  5. गिरी का दूध कुपोषण के शिकार बच्चो के लिए बहुत उपयोगी है.
  6. नारियल का सेवन मुत्त्र साफ लता है, पोरोष में वृद्धि करता है, मासिक धर्म खोलता है, शरीर को मोटा बनाता है तथा  मस्तिष्क की दुर्बलता दूर करता है.
  7. मुह में छाले हो जाने पर या पान खाने से जीभ काट जाने पर सुखी गिरी तथा मिश्री मिलकर खाने से लाभ होता है.
  8. कच्चे नारियल की 25 ग्राम गिरी बारीक़ पीसकर अरंडी के तेल के साथ खाने से पेट के कीड़े निकल जाते है.
  9. सुबह भूखे पेट नारियल खाने से नक्सीर आनी बंद हो जाती है.
  10. नारियल की गिरी बादाम, अखरोट, पोस्ता के दाने मिलकर सेवन करने से स्मरण शक्ति तथा शरीर की शक्ति बढती है.
  11. मिश्री के साथ गिरी खाने से प्रसव-दर्द नहीं होता तथा संतान गोरवान हष्ट-पुष्ट होती है.
  12. शक्कर और गिरी मिलाकर खाने से आँखों के सामान्य रोगों में लाभ मिलता है.
  13. पुराने नारियल की गिरी को पीसकर उसमे थोड़ी सी हल्दी मिलकर उसे गरम करके चोट या मोच पर बाँधने से आराम मिलता है.
  14. नारियल की गिरी कब्ज दूर करने में सहायक होती है. यह Fआंतो में चिकनाहट पैदा कर कर देती है.

इसे पढ़े :- इन गरेलू उपाए से घर बैठे अपने चहरे को गोरा और सुन्दर बनाये.

नारियल पानी के गुण और फायेदे | Coconut Water Benefit in Hindi :

कच्चे नारियल को डाब कहा जाता है. इसमें काफी मात्र में मीठा पानी होता है. धीरे धीरे यह पानी मुलायम गिरी में बदलता है. जब पानी सूखने लगता है तो यह मुलायम गिरी कठोर हो जाती है. यही कठोर भाग खोपरा कहलाता है.

  1. नारियल का पानी अम्रत की तरह लाभदायक होत है. यह स्वाथ्यवर्दक और पोष्टिक है. इसको पिने से प्यास तो बुझती है. साथ में शरीर को शक्ति भी मिलती है.
  2. आयुर्वेद में इसके पानी को स्वादिष्ट, शीतल, रोचक, रक्तशोधक,प्यास और पित को शांत करने वाला, मूर्छा तथा ज्वर निवारक माना गया है. ताज़े कच्चे नारियल के पानी में माँ के दूध समान गुण होते है. पानी से शरीर को देनिक आवश्यकताओ के बराबर मात्रा में विटामिन c मिलता है.
  3. एलोपैथी के अनुसार ये पानी ग्लूकोज के पानी की जगह इस्तेमाल करा जा सकता है.
  4. हरे नारियल के पानी के रासायनिक गुण रक्त के प्लाज्मा के समान होते है.
  5. पानी में अधिक पोषक तत्व और 5% चीनी की मात्रा पाई जाते है.
  6. निर्जलीकरन को दूर करने का यह सबसे सस्ता और आदर्श द्रव्ये है.
  7. डाब का पानी अनिंद्रा की अवस्था में बहुत लाभ पहुचाता है.
  8. नारियल में मौजूद पानी को पिने से हिचकी दूर होती है. और पेट के दर्द में भी लाभ देता है.
  9. पेशाब की जलन में नारियल पानी में गुड तथा हरा धनिया मिलाकर पिने से लाभ होता है.
  10. ये पानी पेट साफ रखने और पथरी निकालने में सहायक होता है.
  11. अगर पेट में कीड़े हो, तोह नारियल पानी पिने के बाद अन्दर के कच्चे फल को खाए. इससे पेट के सभी कीड़े निकल जाते है.
  12. बुखार में नारयल पानी पिने का फायेदा बहुत है.
  13. गर्मी में लू लगने पर इसमें काला जीरा पिस कर मिलाये और पुरे शारीर पर लैप करे. लू से बहुत जल्दी आराम मिलेगा.

इसे पढ़े :- अगर आपके बाल झड रहे है, तो आजमाए ये घरेलु नुस्खे .

नारियल तेल के फायेदे और गुण

करीब 65% नारियल खाने के काम में लिया जाता है, बाकी का तेल निकलता है. 1000 फलो से करीब 250 किलोग्राम खोपरा तथा 100 लीटर तेल निकला जाता है. यह तेल 23 से 28 डिग्री सेल्सियस पर पिघलता और इससे कम ताप पर ठोस जमा हुआ रहता है.

  1. करीब 20% तेल खाने में काम लिया जाता है तथा शेष ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने के काम में आता है. इससे साबुन और मोमबत्ती जैसे प्रोडक्ट्स बनाये जाते है.
  2. यह तेल खाने में सुपाच्य होता है. दक्षिण भारत में इसका इस्तेमाल खाने और तलने के काम में ज्यादा इस्तेमाल करते है.
  3. खोपरे का तेल शरीर की अनेक बीमारियो को ठीक करता है. ये स्मरणशक्ति को भी बढाता है.
  4. तेल में नींबू का रस मिलाकर मालिश करने से खुजली मिटती है. इसके अलावा बालो का झड़ना और सफ़ेद होने की परेशानी से निजात मिलती है.
  5. तेल में बादाम पीसकर लगाने से सरदर्द में आराम मिलता है.
  6. नारियल तेल बालो के लिए बहुत उपयोगी तथा गुण करी है. ये हल्का होने के कारन बाल चिपकते नहीं तथा रुसी आदि परेशानी भी दूर हो जाती है.
  7. नाखुनो को चमकदार बनाने के लिए इस तेल की मालिश करनी चाहिए.

इसे पढ़े :- जानिए सौंफ खाने के किया-किया फायदे है.

नारियल के अन्य उपयोग

  1. नारियल की जटा श्वास सम्बंधित रोगों में बहुत उपयोगी है.
  2. यह रक्तस्राव निरोधक औषोधी है.
  3. दमा और खांसी में जटा की भस्म में शहद मिलाकर दिन में 2, 3 baबार खाने से लाभ मिलते है.
  4. जटा की शहद मिली भस्म हिचकी में भी लाभकारी है.
  5. शारीर के किसी भी भाग से बहते हुए खून पर जटा की भस्म लगाने पर खून बंद हो जाता है.
  6. जटा को जलाकर पीसकर उसमे बुरा मिलाकर करीब 10 ग्राम पानी के साथ लेने से खुनी बवासीर में लाभ मिलता है.

इसे भी पढ़े :- स्वाइन फ्लू के कारण, लक्षण और इलाज.

ये एक ऐसा फल है जिसके बारे में जितना बताया जाये वो कम है. नारियल के गुण एवं फायदे सभी लोगो को पता होना चाहिए. जब भी जरुरत पड़े इसका उपयोग आसानी से कर सके. इस वेबसाइट पर स्वास्थ्य से सम्बंधित ताज़ा अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज लाइक करे और ईमेल से सब्सक्राइब हो लेवे.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.